ASSAM के किस्से

12 posts

Art installations at Dwijing Festival

किस्सा ए दानाई – बोडोलैंड ट्रॅवलॉग | पार्ट 1

अगर सिर्फ लिखने की ही बात है, तो हम अपने पैरों को पंख और आपके मन को पीस लिख सकते हैं! पर अभी हमारा मन ऐसा कुछ लिखने का नहीं है — अभी तो हमारे दिमाग में सिर्फ एक क़िस्सा ए दानाई ने घर बना रक्खा है। पर यह क़िस्सा शुरू करने से पहले आपके लिए यह जानना ज़रूरी है कि क़िस्सा ए दानाई आख़िर है क्या बला! तो कान लगा के ध्यान से देखिएगा – क़िस्सा ए दानाई में दो वर्ड्स हैं, पहला क़िस्सा, जिसका माने है किस्सा, कहानी या वृतांत; और दूसरा वर्ड है दानाई, जिसका मतलब होता है विज़डम! तो जी, इस बोडोलैंड वाली ट्रिप पर जिस विज़डम से हम जिए, ये उसी की बात है – क़िस्सा ए दानाई।

वैसे ये क़िस्सा ए दानाई सुनते सुनते आपका इस बात पर हमें लताड़ने का मन कर सकता है कि हमारी लैंग्वेज प्योर और पारिवारिक क्यों नहीं है! हम बस इतना कहेंगे कि जिस दिन राजश्री प्रोडक्शन वाले अपनी फिल्मों की स्क्रिप्ट या डायलॉग हम से लिखवाने लगेंगे, उस दिन हम वो भी कर लेंगे। अब इससे पहले कि हम शूर्पनखा की तरह हांडते – हांडते, राम और लक्ष्मण पर फ़िदा हो कर अपनी नाक कटवा लें, हम अपने क़िस्सा ए दानाई पर आ जाते हैं।

Dwijing Festival

Know it all Guide to Dwijing Festival – BAWRAY BANJARAY GUIDES

Dwijing Festival is an annual festival held during the new year’s time, from Dec 27th to Jan 7th every year. We were invited by Bodoland Tourism and Assam Tourism to attend the festival, through their program, Ambassadors of Bodoland. While the festival lasts for 12 days, we spent 3 days here, and in these three days, we were not able to see it in its entirety. We couldn’t eat all the food, could not drink all types of local wines, dance with locals was never getting enough and the art installments were so thought-provoking that you might be spending days at a time and still not be fulfilled by the meanings.

An eagle view of majuli Island

रिकैप | नार्थईस्ट भारत से पहली मुलाकात

हमलोग कोहिमा शहर एक्स्प्लोर करते हुए हार्नबिल फेस्टिवल की तरफ बढ़ रहे थे. कलाम, लिंकन, इंस्टीन और एमिनेम — अगर कोई शहर आपको इन सब को एक ही फ़्रेम में दिखाता है, तो आपको एक बार ऐसे शहर को क़रीब से ज़रूर जानना चाहिए. हमारे पास कोहिमा में बिताने का ज्यादा समय तो नहीं था, पर दुबारा यहां आने के लिए शहर की इतनी झलक काफ़ी थी. कोहिमा से किसामा जाकर अब बारी थी नागालैंड के सबसे फ़ेमस ‘हॉर्नबिल फेस्टिवल’ अटेंड करने की. यही मौका था यहां के लोगों को और अच्छे से जानने का. जब तक हम आपसे नार्थईस्ट यात्रा की आगे की कहानी बताएं, तब तक आप आप माजुली में हमारे पहले दो दिनों की कहानी ज़रूर पढ़ लीजिए।

Bodoland Territorial Region

Bodoland: An Epitome of Human Persistence

We got to know and experience the raw stories and unadulterated beauty of Bodoland, thanks to the Ambassadors of Bodoland program by Bodoland Tourism. We were hosted by Rootbridge Foundation on this 8-day extravaganza in ever-awesome Assam! Apart from the other stories that we had gathered, we also got to have some sense of what(s), why(s) and a couple of other questions! Let’s begin!

Bawray Banjaray with Ambassadors Of Bodoland in Manas National Park

Kalamati : An Unknown Frontier At The Indo Bhutan Border

Kala meaning ‘color black’ and Mati meaning soil, Kalamati would be the name of a place where the soil is black – in fact, one of the blackest we have ever got our eyes upon — thanks to the abundance of various salts and other ores. Kalamati is situated on the banks of a stream, also named as Kalamati that works as the border for India and Bhutan. Not quite famous in the tourism scene of India, Kalamati is a popular picnic destination for locals of Chirang district in Assam. However, the locals of Chirang district are not the only […]

People in Umswai Village

Know It All Guide To Umswai Valley: Well Kept Secrets Of Rural Assam

We are pretty sure that when it comes down to places to visit in Assam, a list of well-advertised places with names of the city of Guwahati, Kamakhya Temple, Kaziranga National park, Tezpur, Sialkuthi, Majuli, and of course the all-mighty Brahmaputra pop up. But what if we tell you that Assam has much more up its sleeve than what usually pops up in the trendy listicles. On our exposure to the interiors of rural Assam with the Ambassadors Of Bodoland at the Dwijing Fest 2020, we dropped by in this valley called Umswai in West Karbi Anglong district of Assam. […]

Sunrise in Majul by Brahmaputra River

अ फेस ऑफ विद लॉस – माजुली आइलैंड | नॉर्थईस्ट भारत से पहली मुलाकात | भाग – 1

बहुत से लोग, संस्थाएं और सरकार इसे बचाने की कोशिश में लगे हैं। पर, माजुली को बचाने के लिए अभी तक जितने भी प्रयास किये गए हैं, कुछ ज्यादा सफल नहीं रहे। जरुरत है कि ज्यादा से ज्यादा लोग माजुली पहुँचे और लिखकर, मूवी बनाकर या किसी भी तरीके से माजुली पर मंडराते खतरे के बारे में लोगों को बताएं। सरकार और संस्थाओं के साथ-साथ लोगों का साथ ज्यादा जरुरी है, नहीं तो माजुली नक़्शे से ही गायब हो जाएगा।

bawray Banjaray at Dal Lake in Srinagar

Indian Rivers And Water Bodies We Have Been To – Bawray Banjaray Photo Blog

कुछ 5 TB डेटा में से ये बता पाना कि क्या रखना है क्या नहीं रखना है एक बेहद ही कुतार्किक, बेफ़ज़ूल और दिमाग खराब करने वाली प्रक्रिया है और आजकल हम इस प्रक्रिया से निरंतर गुज़र रहे हैं – गुज़र क्या, बह रहे हैं.

Traditional huts as home stays in Majuli

Bawray Banjaray In North East – Live Blog

अपना नार्थ ईस्ट वाली ट्रिप रहा बहुत शानदार – दिल्ली से गुवाहाटी, गुवाहाटी से माजुली, माजुली से हार्नबिल फेस्टिवल, हार्नबिल से आसाम के एक छोटे से कसबे करीमगंज और पघिर वहां से मेघालय – 10 दिन कैसे बीत गए, कुछ पता ही नहीं चला.